हरिद्वार से हिंदी को संयुक्त राष्ट्र की भाषा बनाने का अभियान होगा शुरू, दुनिया के साहित्यकार पहुंचेंगे राजधानी

देहरादून : विश्व हिंदी दिवस के मौके पर आज बुधवार को तीर्थनगरी हरिद्वार से हिंदी को राष्ट्रभाषा और संयुक्त राष्ट्र की भाषा बनाने का अभियान शुरू किया जाएगा। पूर्व केंद्रीय शिक्षा मंत्री, सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक के अनुसार देश – दुनिया के जान माने हिंदी विद्वान व साहित्यकार हरिद्वार में जुटेंगे और हिंदी को उसका वैभव दिलाने के लिए संकल्प लिया जाएगा।

डॉ. निशंक देहरादून स्थित अपने कार्यालय में एक मीडिया कॉनफेरेन्स को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने बताया कि विश्व हिंदी दिवस पर हरिद्वार स्थित आयुर्वेद विवि के ऋषिकुल परिसर के सभागार में यह आयोजन किया जाएगा। जिसमें ब्रिटेन से दिव्या माथुर, कनाडा से शैलजा सक्सेना, अमेरिका अनूप भार्गव, ब्रिटेन से जय वर्मा, लंदन से कृष्ण टंडन, जापान से रमा शर्मा, कनाडा से स्नेह ठाकुर, आयरलैंड से अभिषेक त्रिपाठी, रूस से इंद्रजीत सिंह, उज्बेकिस्तान से उल्फत मुखीबोबा, वैश्विक हिंदी परिवार से कवि व लेखक अनिल जोशी व प्रतिष्ठित लेखिका डॉ. मधु चतुर्वेदी दो दिवसीय आयोजन में भाग लेंगे। निशंक ने प्रेसवार्ता में कहा कि हिंदी की पहचान, एकता के सूत्र में हिंदी को स्थापित करने और विश्व में हिंदी की गरिमा बढ़ाने के लिए अभियान जारी है।  दुर्भाग्य से देश में हिंदी को राष्ट्रभाषा का दर्जा नहीं मिल सका।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *