समुद्री लुटेरों के कब्जे से एक और जहाज को सुरक्षित करने की कोशिश जारी, वीडियो हुआ साझा

नई दिल्ली : भारतीय नौसेना के हिंद और अरब महासागर में बढ़ते प्रभाव का एक और उदाहरण सामने आया है।  जहां नौसेना ने सोमालियाई लुटेरों से एक जहाज को बचाने की कोशिश में लगी है और बचाव अभियान के दौरान समुद्री लुटेरों ने नौसेना के युद्धक जहाज पर हमला भी किया, लेकिन नौसेना द्वारा भी समुद्री लुटेरों को मुंहतोड़ जवाब  दिया है और जहाज को बचाने की कोशिश की जा रही है, वह एमवी रुएन जहाज है, जिसे समुद्री लुटेरों ने बीते साल दिसंबर में हाइजैक किया था।

 

बतादें कि एमवी रुएन जहाज को बीते साल दिसंबर में समुद्री लुटेरों ने अगवा किया था उस टाइम पर भी नौसेना ने जहाज को समुद्री लुटेरों के कब्जे से बचाने का सघन प्रयास किया था नौसेना ने क्रू के सदस्यों में से एक को बचाया था। अब एमवी रुएन का समुद्री लुटेरे अन्य जहाजों को लूटने के लिए इस्तेमाल कर रहे थे।
नौसेना ने 15 मार्च को एमवी रुएन जहाज को सोमालिया के पूर्वी तट पर इंटरसेप्ट किया। नौसेना ने जानकारी दी है कि समुद्री लुटेरों के जहाज के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। नौसेना ने बयान जारी किया है कि ‘समुद्री लुटेरों ने भारतीय नौसेना के युद्धक जहाज पर फायरिंग की। इसके बाद जहाज पर मौजूद समुद्री लुटेरों को आत्मसमर्पण करने के लिए कहा गया।’ हालांकि कार्रवाई अभी भी जारी है। समुद्री लुटेरों से बचाया गया जहाज माल्टा का है, जिसे समुद्री लुटेरों ने 14 दिसंबर 2023 को अदन की खाड़ी से अगवा कर लिया था। नौसेना ने एक नाविक को बचाया था। यह जहाज कोरिया से तुर्किए की तरफ जा रहा था  14 मार्च की सुबह नौसेना ने बांग्लादेशी जहाज को रेस्क्यू कर लिया। जहाज पर मौजूद सभी क्रू मेंबर सुरक्षित हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *